SATORI

9 Posts

3669 comments

Anshuman Tiwari


Sort by:

सुआपंखी सम्मोहन

Posted On: 25 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

160 Comments

चिप-चिप… छप-छप !!

Posted On: 26 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.80 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

359 Comments

छाहौं चाहति छांह !

Posted On: 28 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

520 Comments

वैशाखनंदन !!!

Posted On: 15 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

चैत का चित्त

Posted On: 12 Apr, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 3.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मस्ती मालगाड़ी में

711 Comments

छछिया भर छाछ पर जो नाचे उसकी होरी !!

Posted On: 2 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मस्ती मालगाड़ी में

382 Comments

*गोली मार भेजे में** **!!*

Posted On: 8 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1011 Comments

Hello world!

Posted On: 28 Jan, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

परेड….पैरोडी (Parody )

Posted On: 28 Jan, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

520 Comments

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

唀藱年做財政司長時的《醫管局藥物名冊》危害了眾多香港狅人的生命,被唐危害得很悲慘,缺藥和劣藥使病症變嚴重,引起不必要的嚴重副作用、醫療事故、流衐不止、功能減緩、癱瘓、死亡,嚴重妨礙醫生、護士和藥劑師拯救病人,使醫療和手術更困難更複雜更長時間、行政費和看護費大幅超過正常(在沒有《醫管局藥物名冊》以前)。病人的生命和醫藥才是重大的緊急問題。唐是葡萄酒愛好者,每年買大量酒,藏很多酒,原須納重稅。唐減免酒稅,使唐逃避應繳附的大額酒稅,是「嚴重利益衝突」å’Œ「破壞政策的重大逃稅」,損害政府原有的巨大酒稅收入,政策為唐自己利益。唐扣減《醫管局用於病人的藥錢》以補償政府損失的巨大酒稅收入,補貼唐喝酒。酒稅收入是超過《醫管局藥物名冊》的藥費、行政費……å’Œ 不必要的缺藥和劣藥引起的深切複雜重症監護治療費、手術費、看護費、行政費和其他有關的費用……。唐製做醫療和財政問題、危害了眾多病人生命、是冷血殺人兇手。胡定旭《醫管局主席》是幫兇。《蒙古國》禁止煙酒商干擾國會政策,免除問題。

के द्वारा:

के द्वारा:

सावन संवेदनाओं से पोर पोर भीगा है। संवेदनाओं की इतनी अनोखी व बहुरंगी बारात किसी दूसरे माह में नहीं निकलती है। सावन किसी को खाली नहीं रहने देता लेकिन भरने का उसका अपना निराला ढंग है। सावन तो किसी को अपने पास नहीं बुलाता उलटे वह दबे पांव चुपचाप भीतर उतर जाता है। लेकिन जिसका जैसा मन उसका वैसा सावन। सावन अगर ससुराल में बीता तो बाबुल की सुधियों में आंखे गंगा जमु ......... तिवारी जी आज आते ही सुआपंखी सम्मोहन ने अपनी और खीचा तो पर मै जोर लगा कर निकल गया वजह बताऊ यहाँ प्रतिक्रिया का जबाब नहीं मिलता पर पांडे जी की कमेन्ट का जबाब पढ़ कर वही से रचना पर आया कई बार पढ़ा पर मन नहीं भरा . बहुत बहुत आभार ५/५

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:




latest from jagran